राजू पंजाबी: ये 10 गाने बनाए थे उनकी पहचान, जिनसे कमाई कर चुके हैं करोड़ों, जानिए कितनी है उनकी संपत्ति

0

गायक राजू पंजाबी का निधन: राजस्थान के रावतसर निवासी राजकुमार ने हरियाणा में अपने नाम ‘राजू पंजाबी’ के रूप में पहचान बनाई। उनका गाना ‘देसी देसी ना बोल्या कर’ आज भी हर किसी की जुबान पर है।

हरियाणा समाचार: हरियाणवी गायक राजू पंजाबी का मंगलवार को निधन हो गया। राजू पंजाबी हरियाणवी इंडस्ट्री के प्रमुख चेहरों में से एक थे। उन्होंने डांसर सपना चौधरी के साथ मिलकर कई ब्लॉकबस्टर गाने गाए। उन्होंने ‘सॉलिड बॉडी’ गाने में भी अपनी आवाज़ दी, जिससे सपना चौधरी को पहचान मिली थी। उनके ‘ठाडा भरतार’ गाने को 19 करोड़ से अधिक लोगों ने देखा है।

राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले के रावतसर निवासी राजू पंजाबी लम्बे समय से हिसार में बसे रहे थे। उनके अचानक इस दुनिया को छोड़ने से उनके परिजनों के साथ ही उनके प्रशंसक भी शोक में हैं। उनकी उम्र 40 वर्ष में ही उनके निधन के साथ समाप्त हो गई। उन्हें काला पीलिया था, जिसके बाद उनके लीवर और फेफड़ों में संक्रमण फैल गया था।

आखिरी गाना 12 अगस्त को रिलीज़ किया गया था।

राजू पंजाबी ने थोड़े समय में ही बड़ी मुकाम हासिल किया था। उनके गाने हरियाणा के अलावा राजस्थान, पश्चिमी यूपी और दिल्ली जैसे कई राज्यों में भी धूम मचा रहे थे। उनके गानों ने हर तरफ धड़ल्ले से अपनी जगह बनाई थी।

सॉलिड बॉडी, सैंडल, तू चीज़ लाजवाब, देसी-देसी न बोल्या कर, ठाड़ा भरतार, गौरा-गौरा मुखड़ा दिखा दे एक बार, मीठी बोली, बोलन में टोटा, फेयर लवली, हवा कसूती सै जैसे गानों ने उनकी पहचान को नया दिमाग दिलाया। ये गाने न केवल उनके व्यक्तिगतिकरण को दर्शाते हैं, बल्कि हर व्यक्ति के दिल में छू जाते थे।

राज्यों की सीमाओं को पार कर, उनकी आवाज़ ने लोगों के दिलों में बस गई थी। उन्होंने अपने संगीत के माध्यम से एक नया सांस्कृतिक समृद्धि का संदेश दिया था।

हाल ही में, 12 अगस्त को उनका आखिरी गाना ‘आपसे मिलके यारा हमको अच्छा लगा था’ रिलीज़ हुआ था। इस गाने के साथ, उनकी आवाज़ ने एक बार फिर से हमें उनकी यादें ताज़ा कर दी।

कितने संपत्ति छोड़कर गए है राजू पंजाबी?

राजू पंजाबी का असली नाम राजकुमार था। उनके कई प्रसिद्ध गानों ने उन्हें सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म यूट्यूब से अच्छी कमाई करने का मौका दिलाया। एक रिपोर्ट के अनुसार, राजू पंजाबी की लगभग 498 करोड़ रुपये की संपत्ति थी, जिसे उन्होंने अपने परिवार के लिए छोड़ दिया। वे न केवल अपनी पत्नी के साथ बल्कि दो बेटियों के प्रति भी परिपूर्ण थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed